Inner Banner
होममाइलस्टोनराष्ट्रीय क्षमता निर्माणशोरलाइन प्रबंधन
Shoreline Management
  • तटीय अवसादी सेल जो देश के तटरेखा प्रबंधन के लिए मूल इनपुट है, के चित्रांकन का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। प्रमुख क्षेत्र जहां तटरेखा प्रबंधन योजना कार्यान्वित किए जाने की आवश्यकता है, का निर्धारण किया जा चुका है।

क्षमता

  • गोवा के समुद्र तटों की क्षमता का आकलन पूर्ण हो चुका है।
  • लक्षद्वीप के आबाद और खाली द्वीपों के लिए पर्यटन क्षमता तैयार की जा चुकी है।

जलवायु में परिवर्तन को कम करना तथा अनुकूलन

  • मुख्य भूमि तट और द्वीप समूहों के लिए अपतटीय पवन ऊर्जा क्षमता पूर्ण कर ली गई है।
  • भारत में तटीय इको सिस्टम से कार्बन पृथक्करण तथा ग्रीन हाऊस गैस उत्सर्जन का मापन।
  • समुद्री अम्लीकरण तथा अल-नीनों प्रभाव के लिए रीयल टाइम कोरल रीफ मानिटरिंग।

प्रदूषण की निगरानी

  • मरीन कुड़ा करकट तथा समुद्र तट स्वच्छता कार्यक्रम कार्य शुरू किया गया है।
  • प्रतिरक्षण प्रयासों के लिए तटीय इको सिस्टम के स्वास्थ्य का अध्ययन किया गया है।
  • संचयी पर्यावरण प्रभावों का मूल्यांकन करने के लिए भारत के तटों/खाड़ियों/क्रीकों के साथ साथ मुख्य प्रदूषण हॉटस्पॉट की निगरानी की जा रही है।

एकीकृत तटीय अंचल प्रबंधन (आईसीजेडएम)

  • आईसीजेडएम योजना तैयार करने के लिए दिशानिर्देश तैयार किए जा रहे हैं।

माइलस्टोन